जोधपुर: महामारी से दर्जनों पक्षियों की मौत, पशु चिकित्सा की टीमें पहुंची मौके पर

जोधपुर। जिले के नोसर स्थित रिदाणीयो की ढाणी क्षेत्र में गत 3 दिनों से दर्जनों की तादाद में पक्षियों की मौत हो रही है। मामला सामने आने के बाद जोधपुर, लोहावट, फलोदी, वन विभाग व क्षेत्रीय चिकित्सा विभाग की टीम नोसर में पहुंची।

मृत पक्षियों के पोस्टमार्टम के लिए तीन अलग-अलग टीमें बनाई गई। जिन्होंने मौके पर मृत पक्षियों के सैंपल लेकर जालंधर भिजवाए। अब पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही इन पक्षियों की मौत के कारणों का खुलासा हो पाएगा। प्रथम दृष्टया में जांच दल ने इनकी मौत का कारण जहरीले पदार्थ का सेवन माना है।

बुखार या खांसी पर तुरंत करवाये जांच

स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि प्रथम दृष्टया में ऐसा नहीं लग रहा है कि बीमारी की वजह से पक्षियों की मौत हुई है। उन्होंने बताया कि सुरक्षा की दृष्टि से क्षेत्र के निवासियों को सावधानी बरतने को कहा गया है।

ग्रामीणों को बुखार या सांस की तकलीफ होने पर तुरंत अस्पताल में जांच करवाने की हिदायत दी गई है। डॉक्टर दिनेश शर्मा ने बताया कि मृत पक्षियों को जमीन में गाड़ा गया है ताकि किसी तरह की बीमारी नहीं फैले। वहीं सुरक्षा की दृष्टि से क्षेत्रवासियों को मास्क का वितरण करवाया गया है।

जांच दल के सामने तड़प तड़प कर पक्षियों ने तोड़ा दम

जांच दल द्वारा पहुंचने के बाद क्षेत्र का जायजा लिया तो उनके सामने ही कई पक्षी तड़प-तड़प कर दम तोड़ रहे थे। इस पर चिकित्सकों ने पक्षियों का मौके पर उपचार भी किया। जिसके बाद कुछ पक्षी तो स्वस्थ हो गए जबकि कइयों पर दवाइयों का असर नहीं हुआ, और उनकी मौत हो गई। चिकित्सकों में एक ही प्रजाति के पक्षी की जान जाने को लेकर भी संशय बना हुआ है।

हरकत में आए जिम्मेदार 

जांच के लिए तीन टीमें बनाई गई थी। जोधपुर से पहुंची टीम में डॉ. वीढलेश व्यास, नरपत सिंह, विजयपाल सिंह शेखावत, रघुवीर दाधीच, ओमप्रकाश डूडी। लोहावट से पशु चिकित्सक डॉ. अनिल कुमार व रतनलाल ने जांच कर सैंपल लिए। वहीं नौसर की मेडिकल टीम में पल्ली पीएचसी के डॉ. दिनेश शर्मा, एएनएम रीनू सिहोटा, एमपीडब्ल्यू अब्दुल, एसडब्ल्यू संजय भाटी मौजूद थे। इस दौरान फलोदी चिकित्सा विभाग के भागीरथ सोनी व महेंद्र चौधरी ने क्षेत्र के जलाशयों से पानी के सैंपल लिए। मौके पर पहुंचे वन विभाग के कर्मचारियों व लोहावट तहसीलदार डाला राम पवार ने भी स्थिति की जानकारी ली।

संक्रमण फैलने की आशंका

पानी की खेळी मृत पक्षियों से भरी, संक्रमण की आशंका:जिस क्षेत्र में पक्षी मर रहे हैं वहां एक नलकूप व खेळी हैं। जहां अन्य पशु-पक्षी पानी पीने आते हैं। इस खेळी में भी 50 से ज्यादा पक्षी मरे पड़े हैं। इससे संक्रमण फैलने की आशंका बढ़ गई है।

एसडीएम ने दिए निर्देश

एसडीएम अनिल जैन ने बताया था कि नौसर गांव में अज्ञात कारणों से पक्षियों की मौत हो रही है। इसके बाद मेडिकल टीम गठित कर वहां सर्वे के लिए भेजी गई हैं। पशुपालन विभाग से भी सैंपल लेने और पक्षियों का पोस्टमार्टम कर मौत के कारणों का पता लगाने को कहा गया है।

Web Title : Jodhpur: Diseased birds die from pandemic