क्रिकेट की दुनिया में नया अध्याय लिखने भारत के खिलाफ उतरेगी अफगान टीम, मुजीब और राशिद पर रहेंगी सबकी निगाहें

नई दिल्ली: खेलों की दुनिया में यूं तो हर मुकाबला हार-जीत के पैमाने रखा जाता है लेकिन गुरुवार को बेंगलुरू टीम इंडिया और अफगानिस्तान के बीच टेस्ट मैच शुरू होगा तो यह मुकाबला इतिहास के पन्नों में नतीजे की बजाय अपने होने की वजह से स्वर्ण अक्षरों में दर्ज हो जाएगा. इंगलैंड की धरती पर शरू होने वाले क्रिकेट के इस खेल में 14 जून  एक ऐसा अध्याय जुड़ने जा रहा है जो इस खल को वाकई में ग्लोबल बना देगा. इससे पहले क्रिकेट में टेस्ट क्रिकेट खेलने का दर्जा अभी तक उन्हीं देशों को हासिल हुआ है जो या तो सीधे या फिर परोक्ष रूप से ब्रिटिश कभी ना कभी ब्रिटिश राज के गुलाम रहे हैं. लेकिन गुरूवार को जब अफगानिस्तान की टीम अपने पहले टेस्ट को खेलने के लिए मैदान पर उतरेगी तो वह टेस्ट खेलने वाली ऐसी टीम बन जाएगी जिसके देश में ब्रिटिश साम्राज्य का सूरज कभी उदय नहीं हुआ.India vs Afghanistan one off test: à¤à¤¬, à¤à¤¹à¤¾à¤ à¤à¤° à¤à¥à¤¸à¥ दà¥à¤ सà¤à¤¤à¥ हà¥à¤ मà¥à¤, à¤à¤¨à¤²à¤¾à¤à¤¨ सà¥à¤à¥à¤°à¥à¤®à¤¿à¤à¤ हà¥à¤à¤¸à¥à¤à¤¾à¤° पर

अधिकतर खेल प्रेमियों का दिल और दिमाग रूस में लियोनेल मेस्सी और क्रिस्टियानो रोनाल्डो जैसे फुटबालरों के करिश्माई खेल पर लगा होगा तब क्रिकेट के धुर प्रशंसक राशिद खान को शिखर धवन और अंजिक्य रहाणे जैसे बल्लेबाजों के लिये फ्लिपर या गुगली करते हुए देखना पसंद करेंगे।India vs Afghanistan Test : à¤à¥à¤°à¤¿à¤à¥à¤ à¤à¥ दà¥à¤¨à¤¿à¤¯à¤¾ मà¥à¤ रà¤à¤¾ à¤à¤¾à¤à¤à¤¾ नया à¤à¤¤à¤¿à¤¹à¤¾à¤¸जब भी कोई नयी टीम किसी प्रारूप में पदार्पण करती है तो वह थोड़ा नर्वस रहती है लेकिन युद्ध की विभीषिका झेल चुके अफगानिस्तान से जुड़े राजनीतिक-सामाजिक किस्सों ने इस मैच को अलग संदर्भ दे दिया है। मैदान पर यह केवल एक अन्य टेस्ट मैच है लेकिन इसका महत्व इससे भी बढ़कर है। अफगानिस्तान इसके साथ टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण करने वाली 12वां देश बन जाएगा और इस ऐतिहासिक मैच में राशिद, मुजीब जादरान और मोहम्मद शहजाद जैसे खिलाड़ी अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे।

विराट कोहली के बिना मैच खेलेगी टीम इंडिया 

भारत अफगानिस्तान का काफी करीबी सहयोगी रहा है तथा बीसीसीआई ने भी पूरी हमदर्दी दिखाते हुए उसकी राष्ट्रीय टीम के अभ्यास के लिये अपने स्टेडियम खोल दिये। लेकिन गुरुवार को जब मैच शुरू होगा तो इतना स्पष्ट है कि अंजिक्य रहाणे की अगुवाई वाली भारतीय टीम अपने इस नये प्रतिद्वंद्वी पर किसी तरह का रहम नहीं दिखाएगी। नियमित कप्तान विराट कोहली तथा दो मुख्य तेज गेंदबाजों भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह के बिना खेल रही भारतीय टीम इंग्लैंड के कड़े दौरे से पहले यहां बड़ी जीत दर्ज करना चाहेगी।

अफगानिस्तान के लिये यह एक नयी तरह की जंग 

अफगानिस्तान के लिये यह एक नयी तरह की जंग होगी जिसका उसे अब तक अनुभव नहीं है। टेस्ट क्रिकेट एक अलग तरह की चुनौती है और राशिद जैसे खिलाड़ियों की असली परीक्षा अब शुरू होगी। यह सभी जानते हैं कि राशिद टी-20 का बेहतरीन गेंदबाज है लेकिन उसकी परीक्षा तो तब शुरू होगी जब वह पांचवां ओवर करने के लिये आएगा। अपना 15वें ओवर करते हुए उसकी बुद्धिमत्ता की परीक्षा होगी तो 23वें ओवर तक उसका संयम आंका जाएगा जबकि 40वें ओवर तक पता चलेगा कि उसमें कितना दमखम है।

अफगानिस्तान के कोच फिल सिमन्स पहले ही कह चुके हैं कि उनके खिलाड़ियों को मैदान पर उतरने तक पता नहीं चलेगा कि टेस्ट क्रिकेट असल में क्या है। अब जबकि स्ट्राइक रेट का कोई दबाव नहीं होगा तब मुरली विजय और चेतेश्वर पुजारा अपने पांव जमाकर लंबी पारियां खेलने की कोशिश करेंगे। भारत के इन अनुभवी बल्लेबाजों को रोकना अफगानिस्तान के लिये आसान नहीं होगा।

आईपीएल में मुजीब ने छोड़ी थी छाप

यह देखना भी दिलचस्प होगा कि अब तक एक भी चार दिवसीय मैच नहीं खेलने वाले 17 वर्षीय मुजीब क्या किंग्स इलेवन पंजाब के अपने साथी केएल राहुल को परेशानी में डाल पाएंगे। यहां उन्हें सीख देने के लिये रविचंद्रन अश्विन भी नहीं होंगे। इसके उलट वह भारतीय बल्लेबाजों को बता रहे होंगे कि मुजीब का सामना कैसे करना है। यह भी देखना होगा कि शहजाद जैसा आक्रामक बल्लेबाज खुद पर कैसे नियंत्रण रखता है क्योंकि टेस्ट क्रिकेट में अलग तरह के कौशल की जरूरत पड़ती है। अफगानिस्तान के कप्तान अशगर स्टेनिकजई ने दावा किया कि उनके स्पिनर भारतीय स्पिनरों से बेहतर है लेकिन उसके बल्लेबाज नहीं जानते कि अपने कप्तान को कैसे सही साबित करना है।

अफगानिस्तान के लिये उनकी बल्लेबाजी समस्या

अफगानिस्तान के लिये उसके स्पिनर नहीं बल्कि बल्लेबाज समस्या हैं। शहजाद और मोहम्मद नबी जैसे बल्लेबाज अश्विन और रविंद्र जडेजा का कैसे सामना करते हैं इसका सीधा प्रभाव अफगानिस्तान के प्रदर्शन पर पड़ेगा। यही नहीं इससे पहले उन्हें इशांत शर्मा की उछाल और उमेश यादव की तेज गेंदों का सामना करना होगा। आयरलैंड ने पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट पदार्पण पर उसे कड़ी चुनौती दी थी और केविन ओ ब्रायन ने साहसिक शतक जमाया था लेकिन अफगानिस्तान के लिये परिणाम कुछ भी हो उसकी ‘खूबसूरत यात्रा’ पहले ही शुरू हो चुकी है।

टीमें इस प्रकार हैं-

भारत: अजिंक्य रहाणे (कप्तान), शिखर धवन, मुरली विजय, चेतेश्वर पुजारा, केएल राहुल, करुण नायर, दिनेश कार्तिक (विकेटकीपर), हार्दिक पंड्या, शार्दुल ठाकुर, नवदीप सैनी, रविचंद्रन अश्विन, रविंद्र जडेजा कुलदीप यादव, इशांत शर्मा, उमेश यादव में से।

अफगानिस्तान: अशगर स्टेनिकजई, मोहम्मद शहजाद, जावेद अहमदी, रहमत शाह, एहसानुल्लाह जनात, नासीर जमाल, हशमतुल्ला शाहिदी, अफसर जजाई, मोहम्मद नबी, राशिद खान, जाहिर खान, अमीर हमजा होताक, सैयद अहमद शिरजाद, यामिन अहमदजई वफादार, मुजीब उर रहमान में से।

Web Title : Afghan team to play against India to write new chapter in cricket world